You are here
Home > Crime > मंदसौर: हैवानियत की शिकार मासूम की तड़प- ‘ठीक कर दो या मार दो’

मंदसौर: हैवानियत की शिकार मासूम की तड़प- ‘ठीक कर दो या मार दो’

source – aajtak.intoday.in

मध्य प्रदेश के मंदसौर में हैवानियत की शिकार सात साल की मासूम अभी भी इंदौर के एमवाई हॉस्पिटल में जिंदगी और मौत से जूझ रही है. बच्ची के साथ दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी गई थी, जिसके चलते बच्ची इस कदर दर्द और सदमे में है कि होश में आने पर उसने अपनी मां से कहा ‘मां मुझे ठीक कर दो या मार डालो’.

बच्ची की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है और डॉक्टरों का कहना है कि जख्म भरने में और बच्ची को ठीक होने में अभी 15 से 20 दिन लग जाएंगे. बच्ची की सुरक्षा में दो पुलिसकर्मी हॉस्पिटल में तैनात किए गए हैं, हालांकि बच्ची पल भर के लिए भी मां को नहीं छोड़ रही.

बच्ची इस कदर सहमी हुई है कि कोई डॉक्टर या नर्स इंजेक्शन भी लगाए या उसे छुए भी तो वह दर्द से कराह उठती है. बता दें कि बच्ची जब हॉस्पिटल लाई गई, उस समय उसकी हालत इतनी खराब थी कि डॉक्टरों को सात घंटे तक बच्ची का ऑपरेशन करना पड़ा.बच्ची का इलाज करने वाले डॉ. ब्रजेश लाहोटी ने बताया कि बच्ची को गंभीर चोटें आई हैं. उसे एक यूनिट ब्लड भी चढ़ाया गया है. बच्ची अभी भी सदमे में है, इससे बाहर निकलने में उसे वक्त लगेगा. बच्ची के साथ इस कदर दरिंदगी की गई कि डॉक्टर और पुलिस भी उसकी हालत देखकर कांप गए थे.

पूरे देश को दहला देने वाली इस घटना पर जहां चारों ओर से बच्ची के लिए दुआएं की जा रही हैं, वहीं क्षेत्रीय BJP सांसद और विधायक ने शर्मनाक हरकत की है. क्षेत्रीय बीजेपी विधायक सुदर्शन गुप्ता और क्षेत्रीय बीजेपी सांसद सुधीर गुप्ता शुक्रवार को बच्ची का हाल-चाल लेने और उसके परिजनों को ढांढस देने के लिए एमवाई हॉस्पिटल पहुंचे.

इस बीच मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की इंदौर बेंच में एक जनहित याचिका दायर की गई है, जिसमें मांग की गई है कि बच्ची का इलाज दिल्ली स्थित एम्स में सरकारी खर्च पर करवाया जाए. इसके अलावा घटना के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार मानते हुए उसे बर्खास्त करने की मांग भी की गई है.बता दें कि गिरफ्तार किए गए दोनों दरिंदों में से एक ने मंगलवार को स्कूल खत्म होने के बाद स्कूल से बाहर पिता का इंतजार कर रही बच्ची को लड्डू खिलाकर फुसला लिया था और जंगल की ओर ले गया था. जंगल में दूसरा आरोपी पहले से मौजूद था.

हालांकि हॉस्पिटल में बीजेपी विधायक सुदर्शन गुप्ता और बीजेपी सांसद सुधीर गुप्ता उल्टे बच्ची के परिजनों पर ही एहसान जताने लगे. सुधीर गुप्ता ने बच्ची के परिजनों से कहा कि वे मंदसौर के सांसद महोदय का धन्यवाद करें, क्योंकि वह उनसे मिलने अस्पताल तक आए हैं.इस बीच पुलिस ने मासूम के साथ दरिंदगी करने वाले दूसरे आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया है. लेकिन दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद भी लोगों का आक्रोश कम होने का नाम नहीं ले रहा. लगातार दूसरे दिन शुक्रवार को भी पूरे इलाके में लोगों ने आरोपियों को फांसी दिए जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया.

फिर दोनों ने मिलकर बच्ची के साथ इतनी दरिंदगी से रेप किया कि इंसानियत भी कांप उठे. मासूम बच्ची को इतनी गहरी चोटें आई थीं कि उसकी सर्जरी 7 घंटे चली. उसके गले में भी सात टांके लगाए गए. नाक पर जख्म इतने गहरे थे कि नेसोगेस्ट्रिक ट्यूब लगानी पड़ी और मुंह के घावों को ढंकने के लिए ल्यूकोप्लास्टी की गई.इस बीच गिरफ्तार कर लिए गए पहले आरोपी इरफान के गांव रिंगनोद के लोगों ने एलान किया है कि कोर्ट से अगर उसे फांसी की सजा दी जाती है तो फांसी के बाद उसके शव को गांव में दफनाने ही नहीं देंगे.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बच्ची के शरीर पर जगह-जगह दरिंदों के दांत के निशान हैं. नाक पर जख्म इतने गहरे हैं कि डॉक्टरों को नेसोगेस्ट्रिक ट्यूब लगानी पड़ी. बच्ची का प्राइवेट पार्ट लहूलुहान है. रात में ही डॉक्टरों को उसका ऑपरेशन करना पड़ा. आंतों को काटकर बाहर एक रास्ता बनाकर प्राइवेट पार्ट्स को ऑपरेट किया गया.

source – aajtak.intoday.in

Leave a Reply

Top