You are here
Home > Crime > बुराड़ी कांड: सामने आया ‘मौत के रजिस्टर’ का पहला पन्ना

बुराड़ी कांड: सामने आया ‘मौत के रजिस्टर’ का पहला पन्ना

burari

source – aajtak.intoday.in

बुराड़ी में एक ही घर में 11 लोगों की मौत की जांच में पुलिस अभी भी जुटी हुई है. पुलिस ललित भाटिया के जिंदगी के पन्ने खंगाल रही है. पुलिस को पता चला है कि ललित की 10 साल पहले आवाज चली गई थी. लूट के इरादे से बदमाशों ने उनकी गर्दन दबा दी थी, जिससे ऐसा हुआ. इसके बाद उनका इलाज चला

बुराड़ी कांड: सामने आया 'मौत के रजिस्टर' का पहला पन्ना

बताया जा रहा है कि इलाज करवाते समय ललित का रुझान पूजा पाठ की ओर बढ़ गया. ललित का बोलना लगभग 6 माह बिल्कुल बंद था. इसी बीच उनके पिता गोपाल दास की मौत हो गई. उनकी मौत के बाद अचानक ललित की आवाज आ गई, लेकिन वह खुद की नहीं बल्कि पिता की टोन में बात करने लगा.

बुराड़ी कांड: सामने आया 'मौत के रजिस्टर' का पहला पन्ना

ललित की आवाज का वापस लौटना भाटिया परिवार के लिए किसी चमत्कार से कम नहीं था. इसके बाद ललित की धार्मिक आस्था बढ़ गई और वह ज्यादा पूजा-पाठ करने लगा.

वहीं, अभी तक ये बातें सामने आ रही थीं कि ललित के हाथ खुले थे लेकिन एफआईआर में यह बात पलट गई. पुलिस को ललित के हाथ और मुंह भी बंधे मिले. शुभम का मुंह, हाथ व आंख, टीना का मुंह, भुवनेश के पैर व आंखों पर पट्टी लिपटी मिली.

वहीं, प्रियंका के हाथ, मुंह और आंखें, नीतू के हाथ, पैर और आंख, मोनू के पैर, ध्रुव के पैर, मुंह व आंखें और सविता के पैर, मुंह और प्रतिभा के कमर से हाथ बंधे थे.

क्राइम ब्रांच अधिकारियों ने ललित के बड़े भाई दिनेश, बहन सुजाता और प्रियंका के मंगेतर सुमित से पूछताछ की. परिजनों ने दोहराया कि परिवार पूजा पाठ ज्यादा करता था, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि वे तंत्र-मंत्र विद्या से जुड़े हुए थे.

दिल्ली पुलिस सुत्रों के मुताबिक, आज कुछ रजिस्टर और मिले हैं. इसमें साल 2011 की भी लिखाई मिली है. इन रजिस्टर में भी पहले मिले रजिस्टर जैसी बाते लिखी है. इनकी फैमिली, जो रिश्तेदार सगाई में आए थे उनसे और पड़ोसियों से बच्चों के दोस्तों से बात हुई लिखी है.

बुराड़ी कांड: सामने आया 'मौत के रजिस्टर' का पहला पन्ना

कुछ कॉल डिटेल को भी एनालिसिस किया गया है. अभी तक बाबा या गुरु वाली बात सामने नहीं आई है. इन रजिस्टर में भी पिता जी के आने की बात लिखी हुई है. इस मामले में पुलिस को मैंटल डिसऑर्डर वाली बात ही नज़र आ रही है. हालांकि जांच जारी है.

बुराड़ी कांड: सामने आया 'मौत के रजिस्टर' का पहला पन्ना

दिल्ली पुलिस को जो रजिस्टर मिले हैं उसमें 27.5.13 का जिक्र है. इसमें लिखा है ध्यान रखो अपनी गलती को..सुन कर मन छोटा ना करो..जो गलती की है..वो गलती स्वीकार कर आगे बढ़ो वर्तमान की बात करो..भविष्य अपने पास से अच्छा बनेगा..आर्थिक और मानसिक परेशानी का सामना तो एक जुट होकर किया जा सकता है..प्राप्ति (मोक्ष) इस पर इस पर निर्भर करती है कि तुम उसे किस तरह संभालने लायक हो..तुम्हारी उपलब्धि स्वयं है, वो तुमसे दूर नहीं हो सकती..गलतियों से सुबह चिंतक होकर करो…समय बीत गया है.

पुलिस का मानना है कि ललित शेयर्ड साइकोथिक डिसऑर्डर या डिल्यूशनल की बीमारी से ग्रसित था. इसके शिकार लोग चाहते हैं जिन काल्पनिक चीजों को सच मानकर वे महसूस कर रहे हैं, दूसरे लोग भी उसे सच समझें.

source – aajtak.intoday.in

Leave a Reply

Top